बीवी के बदले बीवी


उन्होंने अपना दुपट्टा अपने सीने से हटाया और खरबूजे जितने बड़े दो मम्मे जो कमीज़ के गले से बाहर आने को बेताब थे, मेरे सामने थे।
चाची बोली- अगर कुछ और चाहिए, तो ले तेरे सामने बैठी हूँ, मगर मुझे मोहब्बत में फरेब नहीं चाहिए।
मैंने चाची का दुपट्टा उठा कर उनके कंधे पर रखा और कहा- रज़िया, मेरी मोहब्बत को कभी जिस्म के तराजू में मत तोलना।
और मैं उसके कमरे से बाहर आ गया।

कहने को तो मैं फिल्मी डायलोग मार आया था मगर मैं डर भी रहा था कि अगर चाची ने मुझसे सिर्फ सच्ची मोहब्बत की और मुझे कभी पास नहीं आने दिया तो क्या होगा। फिर मैंने सोचा, कोई बात नहीं, अगर वो भी मेरी मोहब्बत का जवाब मोहब्बत से देगी तो इतना भी चलेगा।

मगर दो जवान जिस्म कब तक एक दूसरे से जुदा रह सकते हैं। एक दिन चाचा को अपने काम के सिलसिले में कहीं जाना पड़ गया। वो दो तीन के लिए बाहर थे। मुझे तो उनके जाने के अगले दिन पता चला।
मैंने यूं ही मौका देखकर चाची को आँख मार दी। अब मोहब्बत में ये सब तो चलता ही था।
जवाब भी माकूल आया; उसने भी आँख मार दी।

मैंने अपना हाथ अपने सर पर फेरा; उसने भी फेरा।
अपने सीने पर मैंने हाथ फेरा तो उसने भी अपने मम्मे पर हाथ फेरा।
मैंने तो अपना लंड पकड़ कर हिला दिया तो वो खूब हंसी।
दोबारा मैंने अपना लंड पकड़ कर उसे हिला कर दिखाया तो उसने हाँ में सर हिला दिया।
मैंने इशारे से कहा- आज रात को!
तो वो मुस्कुरा कर चली गई।

मैं तो कलाबाज़ियाँ खाने लगा। तो क्या आज रात को मुझे चाची के साथ सेक्स करने का मौका मिलेगा। मुझे तो नींद ना आए रात को। मैं अपने कमरे की बत्ती बंद करके खिड़की के पास बैठा, नीचे देखता रहा कि कब चाची की तरफ से कोई इशारा आए। मैं तो खिड़की में बैठा बैठा ऊंघ रहा था.

करीब डेढ़ बजे चाची अपने कमरे से निकली सफ़ेद सूट में, चुपचाप से सीढ़ियाँ चढ़ कर वो ऊपर मेरे कमरे में ही आ गई। दरवाजा तो खुला ही था। अंदर आकर उसने कमरे का दरवाजा बंद किया और दरवाजे के साथ ही लग कर खड़ी हो गई।
मैं उसके पास गया, उसकी सांस तेज़ चल रही थी। मैंने जाते ही चाची को अपनी आगोश में ले लिया। पहले तो वो वैसे ही खड़ी रही मगर फिर वो भी मुझसे लिपट गई। शायद अंदर ही अंदर सोच रही हो कि क्या वो जो करने जा रही है वो सही है गलत। मगर बाद में सोचा होगा, जो होगा देखा जाएगा, और फिर उसने भी मुझसे लिपट जाना ही बेहतर समझा।

दोनों ने बड़ी कस के एक दूसरे को बांहों में भरा। चाची के मोटे मोटे मम्मे जो हमेशा मेरे दिमाग में छाए रहते थे, आज मेरे सीने से चिपके हुये थे, मैंने चाची के मम्मों की नरमी, उनका फैलाव अपने सीने पर महसूस कर रहा था। नीचे उसका गदराया हुआ पेट भी मेरे पेट से लगा हुआ था। मैं सोच रहा था कि चाची अपनी पकड़ ढीली करे तो मैं इसके रसीले होंठ चूसूँ। मगर चाची तो बस जैसे मुझसे चिपक ही गई थी।

मैंने उसकी पीठ पर हाथ फेरा, चाची की ब्रा के ऊपर से भी सहलाया, कंधे, बगल, पीठ और चूतड़ तक सहला दिये। मगर वो तो बस जैसे उस लम्हे में जम गई हो।
मैंने कहा- रज़िया, क्या हुआ मेरी जान?
तब वो थोड़ी ढीली पड़ी और मैंने उसके अपने से थोड़ा सा अलग किया, मगर अब भी उसका पेट और उसके मम्मे मेरे जिस्म से लग रहे थे।

मैंने उसकी ठुड्डी ऊपर उठाई और फिर पहली बार मैंने रज़िया के लबों को चूमा। चूमा क्या बस चूस ही डाला। कितनी बार मैंने उसके होंठों को चूमा, चाटा, चूसा। वो बस बुत बन के खड़ी रही कि जो करना है कर लो।
लबों की शीरीन को पीते पीते मैंने अपने हाथ से उसके दोनों मम्मे पकड़े। बहुत ही मुलायम, पर बहुत ही भारी, जैसे पता नहीं अंदर क्या भरा हो। दोनों मम्मों को दबा कर मैंने तो जैसे जन्नत पा ली हो।

मैं उसी तरह चाची के होंठ चूसता चूसता उसे बिस्तर तक ले गया, और उसे नीचे लेटा कर खुद उसके ऊपर लेट गया। तहमद में मेरा जवान लंड पूरे उफान पर था। मैं तो अपना लंड उसके पेट पर ही रगड़ने लगा।
अब तो चाची भी मेरी पीठ सहलाने लगी थी।

मैंने चाची को छोड़ा और उठ कर सबसे पहले अपनी बनियान उतारी और अपनी लुंगी भी खोल दी। बेशक कमरे में रोशनी बहुत कम थी मगर फिर भी वो मेरा तना हुआ लौड़ा देख सकती थी। मैंने अपना लंड पकड़ कर हिलाया तो वो बेड से उतर कर नीचे बैठ गई, मेरा लंड अपने हाथ में पकड़ा और बस झट से मुंह में लेकर चूसने लगी।

यह तो मेरे लिए और भी नायाब तोहफा था। चाची मेरा लंड चूस रही थी, मैं भी उसके बदन को सहलाता था। थोड़ी देर चूसने के बाद वो खड़ी हो गई। मैं सोचने लगा, क्या हुआ, ये चुपचाप से खड़ी क्यों हो गई।
फिर दिमाग में आया- अबे चूतिये, उसके कपड़े भी तो उतारने है, चल उतार।

Pages: 1 2 3 4

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *


Online porn video at mobile phone


bhai ne chodabaap beti ki chudaideso kahanirandi kahanikamwali ki chudai ki kahanimoti maa ko chodabaap beti ki chudai hindibete ne maa ka rape kiyaantarvasna imageswww.desi sex story.combur me khujlimom ka rape kiyamoti maa ko chodahindi love making storieschudai ka mazadeso kahanipapa ne beti ko chodadesi maa storymaa ki mast chutbuddhe ne chodapapa ne choda hindi kahanigf sex storymararhi sexy storymast chudai kahani in hindipapa ne choda hindi kahanidesi khnijeth bahu ki chudaimoti maa ko chodabudhe ne chodabaap ne beti ko choda hindiindian sex storbeti ki burmom ko choda hindi storybeti ko patayagand antarvasnaindiansexkahani.comantar wasna stories wallpaperbete ne maa ka rape kiyabeti chudisab ko chodachudai baap seindiansextorieshindi sex story mamaa ki chudai ki kahani hindiantarvasna sex imageindian sex stories didibahan ko nanga kiyabahan ko nanga kiyabaap ne beti ko choda sex storypapa ne beti ko chodamaa ki sexy kahanimaa ki badi gandsex kahani with imagedidi ko patayamaa ka balatkar with photospapa ne beti ko chodarandi ki kahaanihema malini sex storygirlfriend sex storiespapa ko seduce kiyachudai ka mazaantevasin in hindianti antarvasnabadi behan sex storychachi ko lund dikhayabaap ne choda beti kodidi ko hotel me chodagf sex storymaa ki sexy kahanimaa ke sath pujaindiansextoriesantarvasna.usmaa ko choda hindi sex storyantevasin in hindimassage sex storybaap ne chodajyothika kisspapa ki kahanihindi sexy kavitasexkhanidesi aex storychodsnaunty ko blackmail kiyadesisexkahanipela peli storybete ne maa ka rape kiyabaap or beti ki chudaichodsndesi kahaniyaaantr vasna combeti ne baap se chudaimaa ka rapeantarvasna imagesgand antarvasna